Like On Facebook

header ads

मकर संक्रांति पे धूमधाम से मनाया गया पभोषा का मेला | pabhosha mela | prabhas giri parwat kaushambi

आपको बतादे कौशाम्बी जिले में स्थित प्रभाषगिरी पर्वत ( पभोषा पहाड़ ) का मान तब बढ़ जाता है।
जब 14 जनवरी को होने वाले मकर संक्रांति पर यहां पर मेला लगता है।
मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन यमुना स्नान का बहुत महत्व है इसिलए पूरे जिले के साथ साथ यहां पर आस पास ले जिले के भी लोग कौशाम्बी में स्थित पभोषा के इस मेले को देखने आते है व खिचड़ी का भोग लगाते है।
मंझनपुर तहसील के पभोषा गावँ में मकर संक्रांति के दिन लगता है मेला ।
यमुना घाट के किनारे स्थित पभोषा गावँ के पास स्थित पहाड़ पर बहुला देवी का मंदिर व छठे पदम प्रभु का मंदिर स्थित है।
आपको बतादे कौशाम्बी जिले का एकमात्र विशाल पर्वत है पभोषा का ये पहाड़।
सोमवार को सुबह से ही लोगो का मेले में आना शुरू हो गया था। मेले में लोगो ने जमकर खरीददारी की और मेले का लुत्फ उठाया।
पूण्य की प्राप्ति के लिए लोगो ने यमुना जी स्नान करके प्रभाषगिरी पर्वत पे स्थित बहुला देवी का दर्शन किया ।
आपको बतादे इस स्थान को पर्यटन का दर्जा भी दिया गया है। पर्व के अलावा यहां पर देश विदेश से लोगो को आना जाना लगा रहता है।

पर्वत की परिक्रमा बहुत ही जोखिम भरा होता है लेकिन श्रद्धालु अपने परिवार व अपने सुख समृद्धि के लिए लोग इस पर्वत का परिक्रमा करते है।
आपको बतादे सदियों से चली आ रही मकर संक्रांति की ये परम्परा आज भी जीवित है,इस बात का अंदाजा यहां की भीड़ को देखकर लगाया जा सकता है।
पभोषा पहाड़ में परिक्रमा लगाते लोग।
इस मेले में महिलाओं की भीड़ बहुत ज्यादा रहती है,क्योंकि यमुना के तराई क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में बाजार काफी दूर पड़ता है । इसलिए यहां की महिलाएं मीना बाजार में जमकर खरीददारी करती है।
यहां पर लाठियों की बिक्री बहुत ही अधिक मात्रा में होती है। तराई क्षेत्र होने से यहां पर लाठियों की खपत बहुत बड़े पैमाने पर होती है। जिले के तमाम लोग इस मेले से लाठियां अपने घर को ले जाते है।

तो कुछ इस प्रकार से था पभोसा का ये मेला जो कि कौशाम्बी का सबसे लोकप्रिय मेला है क्योंकि यहां पर पूरे जिले से लोग आते है ।
इस पोस्ट को शेयर करे और अपना कोमेन्ट जरूर करे पोस्ट के नीचे ।
Video में देखे पभोषा का मेला।

Post a Comment

0 Comments