Like On Facebook

header ads

कौशाम्बी सांसद ने संसद में उठाया कौशाम्बी के विकास का मुद्दा

सबसे पहले तो आप सभी कौशाम्बी वासियो को दिल से स्वागत करते है हम आप के अपने जिले की वेबसाइट पर ।

आपको बतादे की कौशाम्बी के सांसद विनोद कुमार सोनकर जो कि 2019 में दूसरी बार कौशाम्बी की जनता ने विनोद कुमार सोनकर जी को सांसद चुना है।
सांसद जी ने सदन में आज कौशाम्बी के गौरवशाली इतिहास को बताया और साथ ही कौशाम्बी के विकास का मुद्दा भी उठाया।

आज सदन में गूंजी कौशांबी सांसद की आवाज जिले को जल्द मिल सकता है केंद्रीय विद्यालय की सौगात

  सांसद विनोद सोनकर ने लोकसभा सदन में अपनी आवाज बुलंद कर कौशांबी को जल्द केंद्रीय विद्यालय स्वीकृत किए जाने की मांग की है सांसद विनोद सोनकर ने सदन में बताया कि  कौशांबी में केंद्रीय विद्यालय बनाने की पत्रावली 2 वर्षों पूर्व जिला प्रशासन ने  पूर्ण कर केंद्र सरकार को स्वीकृत करने के लिए भेज दिया है लेकिन बीते सत्र में केंद्रीय विद्यालय स्वीकृति नहीं हो सका है और फाइल केंद्र सरकार के पास है  इसलिए केंद्रीय विद्यालय की फाइल  पर  विद्यालय खोले जाने की स्वीकृत जल्द प्रदान की जाए

सदन में बोलते हुए कौशांबी सांसद विनोद सोनकर ने कहा कि मैं अपनी दूसरी बार जीत की बधाई कौशांबी वासियों को देता हूं सदन में सांसद विनोद सोनकर ने कहा कि कौशांबी क्षेत्र का गौरवशाली इतिहास रहा है लेकिन 4 अप्रैल 1997 को यह क्षेत्र तत्कालीन इलाहाबाद वर्तमान प्रयागराज जिले से अलग होकर कौशांबी जिला बनाया गया है अब कौशांबी जिले के शिक्षण संस्थान इंजीनियरिंग कॉलेज केंद्रीय विद्यालय मेडिकल कॉलेज इलाहाबाद के हिस्से में चला गया है जिससे कौशांबी की शिक्षा व्यवस्था चौपट हो गई है 

कभी कौशांबी की धरती में भगवान श्री कृष्ण शिक्षा ग्रहण करने संदीपन मुनि के यहां कौशाम्बी जिला आये थे जो आज संदीपन घाट के नाम जाना जाता है और भगवान राम वनवास जाते समय कौशांबी में पहली रात विश्राम किए थे कौशांबी धरती का इतिहास ऐतिहासिक है और ऋषि-मुनियों की इस नगरी में प्रयागराज से बंटवारे के बाद क्षेत्र का विकास बाधित है कौशांबी क्षेत्र का विकास तभी संभव है जब यहां शिक्षा के साधन सरकार उपलब्ध कराएगी सांसद ने कहा कि इस लिए कौशाम्बी में केंद्रीय विद्यालय खोलना आवश्यक है उक्त जानकारी सांसद जी के ऑफिसियल फेसबुक पेज के वीडियो से लिया गया है।


Post a Comment

0 Comments